Home / Religion (page 6)

Religion

यहां कान देखकर पता लगाते है भविष्य.?

भारतीय जहां भविष्य को जन्मकुंडली देख कर पता करते हैं, तो चीनी लोग कान देखकर उसके भविष्य का अंदाजा लगाते हैं। चीनी कान के आकार और बनावट देख कर भविष्य पता करते हैं। चीनी लोगों का मानना है कि उनके चीनी भगवान शू जिंग के कान बड़े थे। इसलिए उनका मानना है कि जिनके कान बड़े होते हैं वह काफी ...

Read More »

ये है धन के भगवान ‘कुबेर’ का मंदिर

कुबेर धन के स्वामी (धनेश) माने जाते हैं। वे यक्षों के राजा भी हैं। हिंदू पौराणिक ग्रंथों में उल्लेख मिलता है कि कुबेर उत्तर दिशा के दिक्पाल हैं और लोकपाल (संसार के रक्षक) हैं। कुबेर का मंदिर दक्षिण भारत में भी है। यह मंदिर तमिलनाडु के तिरुनेलवेली जिले में है। तमरपरानी नदी के तट पर बना हरिकेसवनाल्लुर मंदिर एक छोटे ...

Read More »

आजमा कर देखें, फ़िज़ूलखर्ची को नियंत्रित करते है ये उपाय

अगर आपके भी बने काम बिगड़ जाते हैं, लाख कोशिशों के बाद भी पैसे नहीं रुकते। आप चाहकर भी वो नहीं कर पाते जो करना चाहते हैं, तो घबराइए मत हम बताते हैं कुछ ऐसे उपाय जो आपकी इन सब परेशानियों को हमेशा के लिए दूर कर देंगे। शास्त्रों में कहा गया है कि हर पूर्णिमा पर सुबह के समय ...

Read More »

बरक़रार है वो राज, साईं ने शिरडी मे क्यों ली समाधि

शिरडी महाराष्ट्र के अहमदनगर ज़िले की राहटा तहसील का एक क़स्बा है। यहां दुनियाभर से साईं बाबा के भक्त उनके दर्शन के लिए आते हैं। दरअसल, शिरडी में साईं बाबा का समाधि मंदिर है। कई श्रद्धालु यहां समाधि पर चादर चढ़ाते हैं। यह समाधि सवा दो मीटर लंबी और एक मीटर चौड़ी है। गुरुवार के दिन भक्तों का तांता बहुत अधिक ...

Read More »

करवाचौथ की पूजा करने का ये है सही मुहर्त

बुधवार यानी 19 अक्टूबर 2016 के दिन चतुर्थी तिथि है। इस दिन सूर्योदय से देर रात्रि तक,चन्द्रोदय रात्रि 8:49 है। इस दिन योग-गजकेशरी योग,सर्वार्थसिद्धी योग,शुभ योग,रोहिणी नक्षत्र,चन्द्रमा अपनी राशि वृषभ में रहेगा! कार्तिक कृष्णपक्ष चतुर्थी को चन्द्रोदय व्यापिनी करवा चन्द्रमा अपने स्वनक्षत्र रोहिणी में रहेगा। चन्द्रमा की 27 पत्नियां है, जिनमें सबसे प्रिय पत्नि रोहिणी हैं। अतः करवा चौथ के ...

Read More »

विडियो : मप्र में यहां साक्षात् है तंत्र-मन्त्र की देवी ‘मां कामाख्या’

हरदा। जिले के हंडिया में मां नर्मदा के तट पर एक अधभुत शक्ति का वास माना जाता है, जिन्हें तंत्र-मन्त्र की देवी मां कामाख्या कहा जाता है। क्षेत्र के बुजुर्गो ने बताया कि सालों पहले एक संत यहां से गुजर रहे थे इसी दौरान उन्हें पम्प हाउस के पास नर्मदा तट पर एक अधभुत शक्ति का आभास हुआ जिसके बाद ...

Read More »

इतिहास में पहली बार यहां हुआ ‘किन्नरों’ का पिंडदान

भारत के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ जब किन्नरों का पिंडदान किया गया। बनारस के पिशाचमोचन कुंड पर शनिवार को देश भर के किन्नरों का जमावड़ा लगा हुआ है, जहां देश भर से महादेव की नगरी काशी आए किन्नरों ने अपने पूर्वजों को मोक्ष दिलाने के लिए पिंडदान किया। यह कार्यक्रम उज्जैन किन्नर अखाड़े के महामंडलेश्वर लक्ष्मी नारायण त्रिपाठी ...

Read More »

इस बार इतने दिनों का होगा श्राद्ध, ध्यान रखे यह बाते

इस वर्ष यानी 2016 में श्राद्ध पक्ष की 1 तिथि कम हो गई है। श्राद्ध पक्ष 16 से शुरू हो गए हैं जो 30 सितंबर तक चलेंगे। यानी 15 दिन तक श्राद्ध रहेंगे। अष्टमी व नवमी का श्राद्ध 24 सितंबर को एक ही दिन होने से यह 16 न होकर 15 दिन के ही रहेंगे। 1] श्राद्ध में जौ, मटर ...

Read More »

क्या आचार्य चाणक्य ने खुद प्राण त्यागे थे, बरक़रार है वो रहस्य

चाणक्य, चंद्रगुप्त मौर्य के महामंत्री थे। उन्होंने नंदवंश का नाश करके चन्द्रगुप्त मौर्य को राजा बनाया था। ‘कौटिल्य’ नाम से भी विख्यात चाणक्य ने अर्थशास्त्र नाम का महान ग्रंथ लिखा है। चाणक्य का असली नाम कौटिल्य नहीं बल्कि विष्णुगुप्त था। इस बात का उल्लेख मुद्राराक्षस नाम के ग्रंथ में मिलता है। विष्णुगुप्त तक्षशिला (वर्तमान में रावलपिंडी के पास) के निवासी ...

Read More »

जानिए क्यों करते है ऋषि पंचमी का व्रत

ऋषि पंचमी पर सप्त ऋषियों की पूजा की जाती है। ‘शतपथ ब्राह्मण’ के अनुसार गौतम, भारद्वाज, विश्वामित्र, जमदग्नि, वसिष्ठ, कश्यप और अत्रि हैं। जबकि ‘महाभारत’ के अनुसार मरीचि, अत्रि, अंगिरा, पुलह, क्रतु, पुलस्त्य और वसिष्ठ सप्तर्षि माने गए हैं। ऋषि पंचमी के दिन इन्हीं ऋषियों की पूजा की जाती है। बात बहुत पुरानी है। एक गांव था। वहां एक उत्तंक नाम का ...

Read More »

बलूचिस्तान में स्थित है 51 शक्तिपीठों में यह एक शक्तिपीठ

पडोसी देश पाकिस्तान का पश्चिमी प्रांत है ‘बलूचिस्तान’। बलूचिस्तान की राजधानी क्वेटा है। यहां के लोगों की प्रमुख भाषा बलूच या बलूची है। बलूचिस्तान नाम का क्षेत्र बड़ा है, और यह ईरान (सिस्तान व बलूचिस्तान प्रांत) तथा अफगानिस्तान के साथ जुड़ा हुआ है। Click here : यहां रोज़ाना रासलीला करते है श्री कृष्ण, जिसने देखने की हिम्मत की वो.. बलूच लोगों ...

Read More »

यहां रोज़ाना रासलीला करते है श्री कृष्ण, जिसने देखने की हिम्मत की वो..

मथुरा| भारत में ऐसी कई जगह हैं, जो कई अपने रहस्यों के कारण हमेशा चर्चा का विषय बनी रहती हैं। कान्हा की नगरी मथुरा वृंदावन में निधिवन ऐसी ही एक जगह है जो अपने रहस्य के लिए जानी जाती है। Must Read : भारत में यहां स्थित है ‘मंदिरों’ का शहर मान्यता है कि वृंदावन में स्थित निधिवन में आज भी ...

Read More »

जन्माष्टमी पर रहेगा विशेष संयोग, यूं रहेगा फलदायी

इस बार कृष्ण जन्माष्टमी का पर्व इस 25 अगस्त को अष्टमी और उनके जन्म नक्षत्र रोहिणी के पावन संयोग में मनेगी। इस दिन अष्टमी उदया तिथि में और मध्य रात्रि जन्मोत्सव के समय रोहिणी नक्षत्र का संयोग रहेगा। भादो महीने की कृष्ण पक्ष की अष्टमी पर गुरुवार 25 अगस्त को कृष्ण जन्मोत्सव की धूम रहेगी। विशेष संयोग के साथ भगवान ...

Read More »

कावड़ उठाने में महिलाये भी पीछे नहीं, खंडवा में निकाली विशाल कावड़ यात्रा

खंडवा। श्रावण को भगवान शिव का अतिप्रिय माह माना जाता है। हिन्दू धार्मिक मान्यताओ के अनुसार श्रावण माह में भगवान शिव को प्रसन्न करने हेतु कावड़ में जल भरकर ले जाया जाता है, श्रद्धा अनुसार पैदल यात्रा कर कावड़ में भरें जल से महादेव का जलाभिषेक किया जाता है। इससे भोले भंडारी सभी मनोकामना पूर्ण करते है।आपने पुरुषो को तो कावड़ ...

Read More »

भारत में यहां स्थित है ‘मंदिरों’ का शहर

मंदिरों का शहर है ‘महाबलीपुरम’। यह शहर तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई से 55 किमी. दूर है, जो बंगाल की खाड़ी के तट पर स्थित है। कभी मामल्लापुरम के नाम से मशहूर मंदिरों का यह शहर भव्य मंदिरों, स्थापत्य कला और सागर-तटों के लिए बहुत प्रसिद्ध है। 7वीं सदी में यह शहर पल्लव राजाओं की राजधानी था। जो द्रविड वास्तुकला की ...

Read More »