मसाला नहीं गुणों का खजाना है धनिया, डायबिटीज और मोटापा करता है कंट्रोल!

धनिया को आमतौर पर मसालों या डिश की गार्निशिंग करने वाली चीज के तौर पर जाना जाता है। मगर अधिकांश लोग इस बात से अंजान रहते हैं कि धनिया पत्ती हो या बीज हमारी सेहत के लिए कितना फायदेमंद होता है।

धनिया पत्ती को जूस, ग्रीन टी या सब्जियों में गार्निशिंग के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं। मगर किसी भी रूप में धनिया पत्ती के पोषक तत्वों की मात्रा में कमी नहीं आती है। हरी धनिया एंटीऑक्सिडेंट और फाइबर का बेहतरीन स्रोत होती है।

इसमें विटामिन बी 16, विटामिन सी, फोलेट्स, विटामिन ए, विटामिन के, मैग्नीज, कैल्शियम, पोटैशियम और आयरन काफी मात्रा में मौजूद होता है। आइए जानते हैं इसके हेल्थ बेनिफिट्स डायबिटीज के मरीजों के खून में इंसुलिन के स्तर को तय सीमा पर रखने और ब्लड शुगर को नियंत्रण में रखने में भी धनिया पत्ती को उपयोगी पाया गया है।

इसमें काफी मात्रा में ऐंटीऑक्सिडेंट्स और अन्य ज़रूरी तत्व होते हैं जोकि ब्लड शुगर को रेग्युलेट करने में मदद करते हैं। इसके अलावा धनिया वजन घटाने और मोटापा कम करने में भी मदद करता है।

हरा धनिया, नींबू और पानी को मिलाकर जूस बना लें। इसे रोजाना सुबह खाली पेट पीने से मोटापा कम होता है।धनिया पत्ती एंटीऑक्सिडेंट्स और फाइबर का अच्छा स्रेत है। इसके ये गुण खून में बैड कोलेस्ट्रॉल को घटाने और गुड कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाने में मदद करते हैं।

धनिया में कॉपर, ज़िंक, आयरन और अन्य ज़रूरी तत्व प्रचुर मात्रा में होते हैं जोकि रेड ब्लड सेल्स की मात्रा बढ़ाने में मदद करते हैं और हार्ट को भी सुरक्षित रखता है। धनिया शरीर का मेटाबॉलिज्म भी सुधारता है।

धनिया पत्ती में कई तरह के एसेंशियल ऑयल होते हैं, जो पाचन में मदद करते हैं। आंत से संबंधी परेशानियों जैसे सूजन, गैस्ट्रिक, डायरिया और उल्टी जैसे परेशानियों को दूर करता है। धनिया में डायटरी फाइबर्स होते हैं जिससे लीवर सही तरह से अपना कार्य करता है।