समय पर सोने और जागने के हैं इतने फायदे कि जानकर हो जाएंगे हैरान!

स्वस्थ रहने के लिए सिर्फ पर्याप्त नींद ही नहीं, बल्कि समय पर नींद लेना और सही समय पर उठना भी बेहद जरूरी है। ऐसा न करना कई रोगों को दावत देना है। समय पर सोने और जागने के फायदों के बारे में जानकारी दे रही हैं दर्शनी प्रियनींद हमारे लिए किसी वरदान से कम नहीं है।

लेकिन भागती -दौड़ती जिंदगी में हमारे सोने की दिनचर्या बुरी तरह प्रभावित होती है। एक अच्छी नींद हमारे दिमाग को तरोताजा करने के लिए और शरीर के दूसरे अंगों को आराम देने के लिए बहुत जरूरी है।

स्मार्ट गैजेट ने उड़ाई नींद
स्मार्टफोन व कंप्यूटर से निकलने वाली कृत्रिम रोशनी हमारी नींद में बुरी तरह खलल डालती है। शोधकर्ताओं के अनुसार, आंखों की कोशिकाएं कृत्रिम रोशनी के संपर्क में आती हैं तो हमारे शरीर की आंतरिक घड़ियां असमंजस में पड़ जाती हैं

जिससे हमारा दैनिक चक्र बिगड़ जाता है और हमारी सेहत पर बुरा असर पड़ता है। हमारी आंखों के पीछे रेटिना नामक एक संवेदी झिल्ली होती है, जिसकी आंतरिक परत में कुछ ऐसी कोशिकाएं होती हैं, जो प्रकाश के प्रति संवेदनशील होती हैं। इसका असर हमारे शरीर की घड़ी पर पड़ता है और पूरा दैनिक चक्र बिगड़ जाता है।

जल्दी उठने के हैं बेहिसाब फायदे
सुबह जल्दी उठकर अतिरिक्त ऊर्जा को प्राप्त किया जा सकता है, जो दिन भर ऊर्जावान बनाये रखने और खुशनुमा एहसास से भरने में सहायक है।

सुबह उठना आपको फिट रखने और मानसिक रूप से शांत और एकाग्र रखने में सहायक होता है।
सुबह की धूप हड्डी व जोड़ों से संबंधित समस्या नहीं आने देती। सुबह का वातावरण और ऑक्सीजन स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद माने जाते हैं।

जानिए क्या होता है चीनी या नमक और चावल ज्यादा खाने से
यदि आपकी भी आदत देर तक सोने की है तो इसे तुरंत बदलना जरूरी है। हाल ही में हुए एक शोध में यह बात सामने आई है कि जो लोग देर तक सोते हैं, उनके व्यवहार में बदलाव आ जाता है

इसका असर हमारे दिमाग पर पड़ता है। शोध में यह पता चला है कि जो लोग स्वाभाविक तौर पर देर से उठते हैं, उनके मस्तिष्क में एक खास तत्व सबसे खराब स्थिति में होता है।

विशेष रूप से दिमाग के उस हिस्से में, जहां से अवसाद और दुख के भाव पैदा होते हैं। इसी कारण देर से उठने वालों को अवसाद और तनाव अधिक होता है। साइंस जर्नल में प्रकाशित एक लेख के अनुसार, जो लोग देर तक सोते हैं, उनके व्यवहार में बदलाव तो आता ही है साथ ही उनके हार्मोन पर भी बुरा असर
पड़ता है।

देर से उठने के बहुत सारे नुकसान हैं, जिनसे देर-सवेर हमारा शरीर प्रभावित होता है। कई बार हमारा शरीर अपनी अनियमित दिनचर्या को झेलने के लिए तैयार नहीं होता और बहुत सी बीमारियों की चपेट में आ जाता है।

देर से उठने के इन नुकसानों पर अपनी नजर बनाए रखें-
कैलोरी बर्न नहीं होने के कारण शरीर मोटापा ग्रस्त हो सकता है।
वजन अनियमित रूप से बढ़ने लगता है।
हार्मोन असंतुलित होने लगते हैं।
दिमाग में एंडोर्फिन स्रावित नहीं होने से स्वभाव चिड़चिड़ापन में आ जाता है।
धीरे-धीरे डिप्रेशन घेर लेता है।
दिल की बीमारी का खतरा बढ़ जाता है ।
ज्यादा आराम करने की स्थिति में मांसपेशियों पर बुरा
असर पड़ता है।
अधिक देर तक सोने से दिमाग पर भी असर पड़ता है और याददाश्त कमजोर होने लगती है।

कम सोने के खतरे
जुकाम और फ्लू का भी खतरा रहता है।
दिल की बीमारियों का दोगुना खतरा।
याददाश्त कमजोर हो सकती है।
मधुमेह हो सकता है।
कब्ज की भी समस्या हो सकती है।
समय से पहले मौत भी हो सकती है।

नींद न आने के कारण
मानसिक तनाव
अत्यधिक थकावट
पेट खराब होना
दिनचर्या संतुलित न होना
सोने-उठने और खाने-पीने का कोई निश्चित समय न होना।