ताजमहल पर नरम पड़े सीएम योगी के तेवर, संगीत सोम पर दी सफाई


लखनऊ। आगरा के ताज महल पर फिर शुरू हुआ विवाद बढ़ता जा रहा है। भाजपा नेता संगीत सोम के बयान पर असदुद्दीन औवेसी और आजम खान के हमले पर सीएम योगी का बयान आया है। मुख्यमंत्री ने कहा है कि इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि इसे किसने और किसके लिए बनाया, ताज महल को भारतीय मजदूरों ने खून-पसीना बहाकर बनाया है।

यह हमारे लिए महत्वपूर्ण है, खासतौर पर पर्यटन के लिहाज से। हम हमारी प्राथमिकता है कि हम वहां पर्यटकों को सुविधाएं और सुरक्षा दें। इससे पहले आजम खान ने इस मुद्दे पर दिए बयान में कहा था कि ताज के अलावा लाल किला, संसद और राष्ट्रपति भवन भी गुलामी की निशानी है। खबरों के अनुसार आजम खान ने ताजमहल को गुलामी की निशाने बताए जाने पर संगीत सोम पर निशाना साधते हुए कहा कि देश में अब तक गुलामी की निशानियों को ना मिटाना राजनीतिक नपुंसकता है।

उन्होंने कहा कि देश में मौजूद उन सभी इमारतों को गिरा देना चाहिए जिनसे कल के शासकों की बू आती है। मैंने तो पहले भी कहा कि सिर्फ ताजमहल ही क्यों संसद भवन, राष्ट्रपति भवन, लाल किला व कुतुब मीनार सब को गिरा देना चहिए। आजम खान ने संगीत सोम का नाम लिए बिना कहा कि मैं किसी को जवाब नहीं दे रहा हूं क्योंकि गोश्त के कारखाने चलाने वालों को राय देने का अधिकार नहीं।

प्रधानमत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ही अब फैसला करेंगे लेकिन मैं यह कहना चाहता हूं कि उन सभी इमारतों को गिरा देना चाहिए जिनसे कल के शासकों की बू आती है। उन्होंने कहा कि हम तो बादशाह से अपील करते हैं। छोटे बादशाह से तो हमने कहा कि आप आगे चलो हम साथ चलेंगे। पहला फावड़ा आपका होगा दूसरा हमारा होगा। इतना कुछ कहने के कदम पीछे हटा लेना राजनीतिक नपुंसकता है।

क्या बोले थे संगीत सोम
मेरठ में एक कार्यक्रम के दौरान भाजपा विधायक संगीत सोम ने ताजमहल को भारतीय संस्कृति पर एक धब्बा बताया था। उन्होंने कहा था कि हम किस इतिहास के बारे में बात कर रहे हैं। ताजमहल के निर्माता (शाहजहां) ने अपने पिता को कैद कर दिया था। वह हिंदुओं को समाप्त करना चाहता था।

यदि ये लोग हमारे इतिहास का हिस्सा हैं, तो यह हमारे लिए बहुत दुख की बात है और हम इस इतिहास को बदल देंगे। इस दौरान उन्होंने गलत तथ्य जनता के सामने रखे, संगीत सोम को शायद ये नहीं पता था कि शांहजहां नहीं बल्कि औरंगजेब ने अपने पिता को कैद किया था।

ओवैसी ने किया था पलटवार
इस पूरे मामले पर एआईएमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि अगर ताजमहल गद्दारों ने बनवाया था तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लालकिले पर तिरंगा फहराना बंद करना चाहिए। लाल किला भी गद्दारों ने ही बनवाया था। दिल्ली में हैदराबाद हाउस को भी ‘गद्दार’ ने ही बनाया था। क्या मोदी विदेशी मेहमानों को यहां आने से रोकेंगे।

बीजेपी ने निजी राय बता कर किया बचाव
भाजपा नेता जीवीएल नरसिंह राव ने कल यह कहते हुए संगीत सोम का बचाव किया कि नेता को अपनी राय देने का हक है। राव ने आगे कहा कि भारतीय इतिहास को विकृत करने का प्रयास किया गया है यह स्मारक बर्बरता का प्रतीक है, जहां तक संगीत सोम का संबंध है, उनके पास बोलने की स्वतंत्रता है यह उनका व्यक्तिगत दृष्टिकोण है और प्रत्येक वक्तव्य पर पार्टी लाइन की आवश्यकता नहीं है।