Bihar छोड़ MadhyaPradesh में जमीन तलाश रहे है शरद यादव

भोपाल। जनता दल (यू) पर हक को लेकर अस्तित्व की लड़ाई लड़ रहे समाजवादी नेता शरद यादव अब अपनी जमीन तलाशने गृह राज्य मध्यप्रदेश आएंगे। प्रदेश जदयू इकाई पहले ही शरद के नेतृत्व में अपना भरोसा जता चुकी है। अक्टूबर के अंतिम सप्ताह में उनका मप्र दौरा बनाया जा रहा है।

चुनाव आयोग द्वारा जदयू पर हक को लेकर नीतीश कुमार के पक्ष में फैसला देने के बाद प्रदेश में शरद गुट से जुड़े पार्टी के पदाधिकारी और कार्यकर्ताओं को एकजुट करने की मुहिम चल पड़ी है। शरद गुट ने 8 अक्टूबर को दिल्ली में पार्टी की राष्ट्रीय परिषद की बैठक बुलाई है।

इसके बाद मप्र में शरद यादव गुट की सक्रियता बढ़ाने की तैयारी है। इसके लिए सागर, कटनी और सैलाना (रतलाम) में पुराने समाजवादियों और नए कार्यकर्ताओं के सम्मेलन बुलाने की तैयारी है।

नीतीश गुट भंग कर चुका है कार्यकारिणी
पिछले सप्ताह नीतीश कुमार गुट वाले जदयू के राष्ट्रीय महासचिव अखिलेश कटियार एवं प्रदेश प्रभारी विद्यासागर सिंह निषाद ने भोपाल में प्रशासन पर दबाव डालकर प्रदेश जदयू का दफ्तर सील करवाकर प्रदेश इकाई को भंग करने का ऐलान कर दिया था।

निषाद को हक नहीं: सरोज
शरद गुट से संबंद्ध एवं जदयू की प्रदेश अध्यक्ष सरोज बच्चन नायक का कहना है कि हम लोग पहले ही शरद यादव को समर्थन दे चुके थे। नीतीश गुट को कार्यकारिणी भंग करने का अधिकार नहीं। मामला अभी चुनाव आयोग के विचाराधीन है, इसलिए निषाद को इस तरह की

घोषणा करने का अधिकार ही नहीं। प्रदेश जदयू के नेता स्वरूप नायक कहते हैं कि पार्टी अब साझा विरासत के कार्यक्रम भी आयोजित करेगी। इसके लिए कांग्रेस सहित विपक्षी दलों से भी चर्चा की जाएगी। उन्होंने बताया कि सैलाना (रतलाम), सागर और कटनी में पार्टी अपनी सक्रियता बढ़ाएगी।