डिप्टी सीएम सुशील मोदी की कार पर हमला, राजद समर्थकों पर लगे आरोप


पटना। बिहार में वैशाली जिले के बिदुपुर थाना अंतर्गत काला पहाड़ गांव के पास राजद के संदिग्ध कार्यकर्त्ताओं ने मंगलवार शाम को उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी की कार पर हमला किया। बिदुपुर थाना प्रभारी रितेश मंडल ने बताया कि कुछ अज्ञात हमलावरों ने उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी की कार पर उस समय पथराव किया जब वह आज शाम काला पहाड़ गांव जा रहे थे।

बाल-बाल बचे सुशील
उन्होंने बताया कि इस पथराव में कार को कुछ क्षति पहुंची है, लेकिन उपमुख्यमंत्री को को कोई चोट नहीं आई है। यह घटना राजद प्रमुख लालू प्रसाद के पुत्र एवं पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव जो कि महागठबंधन के बिखराव को लेकर अपने दूसरे चरण के कार्यक्रम में भाग लेने के लिए समस्तीपुर जा रहे थे, के कारवां के वहां से गुजरने के बाद हुआ।

वैशाली जिले के पुलिस अधीक्षक राकेश कुमार ने कहा कि इस घटना की जानकारी मिलने पर वह घटनास्थल की ओर जा रहे हैं सुशील काला पहाड़ गांव भाजपा के पूर्व विधायक अच्युतानंद सिंह की मां के श्राद्ध कार्यक्रम में भाग लेने जा रहे थे। थाना प्रभारी ने बताया कि उपमुख्यमंत्री के सुरक्षा दल में शामिल पुलिसर्किमयों ने उन्हें इस घटना के बारे में सूचित किया।

लालू ने आरोपों को नकारा
उल्लेखनीय है कि सुशील लालू और उनके परिवार पर बेनामी संपत्ति का लगातार आरोप लगाते रहे हैंं। इस बीच, राजद प्रमुख लालू प्रसाद ने अपनी पार्टी के कार्यकर्त्ताओं द्वारा सुशील पर पथराव किए जाने के आरोप से इंकार करते हुए कहा कि इसमें राजद का कोई हाथ नहीं है और ऐसा उनकी पार्टी की ओर से बिल्कुल नहीं किया गया। उन्होंने आरोप लगाया कि ये लोग ‘फासिस्ट’ लोग हैं। हिंसा करना हमारा काम नहीं और उसमें हम विश्वास नहीं रखते।

सुशील ने खुद करवाया हमला लालू ने बातचीत के दौरान आरोप लगाया कि भागलपुर में करोड़ों रुपये की सरकारी राशि के गबन का मामला उजागर होने पर हमारे द्वारा इसकी सीबीआई जांच की मांग करने और आंदोलन छेड़े जाने तथा लड़ाई को तेज करने पर अपनी सरकार की विफलता से लोगों का ध्यान हटाने तथा हम लोगों को नीचा दिखाने के लिए सुशील द्वारा अपने समर्थकों के जरिए ऐसा करवाया गया होगा।

उन्होंने इसे स्थानीय प्रशासन की विफलता बताते हुए कहा कि जब तेजस्वी अपने विधानसभा क्षेत्र से गुजरे थे और सैकड़ों की संख्या में राजद कार्यकर्ता और युवा सड़कों पर थे तो ऐसे में सुशील मोदी के काफिले को उस रूट से नहीं, बल्कि रूट बदलकर गुजरना चाहिए था । बिहार में भाजपा कोटे से मंत्री नंदकिशोर यादव और मंगल पांडेय सहित पार्टी के अन्य नेताओं ने इसे कायरतापूर्ण कार्रवाई बताया है ।