पीएम मोदी बोले, 30 दिसम्बर बाद बईमानों की बर्बादी

मुंबई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी को कालेधन और भ्रष्टाचार के खिलाफ बड़ा हमला बोलते हुए कहा कि यह लड़ाई तब तक नहीं रुकेगी, जब तक हम जीतेंगे नहीं। उन्होंने कहा कि नोटबंदी की घोषणा (आठ नवंबर) के पचास दिन बाद ईमानदार लोगों की तकलीफें तो कम होंगी, लेकिन बेईमानों की तकलीफ बढ़ना शुरू हो जाएगी।

अब जो समय आ रहा है, वह बेईमानों की बर्बादी का होगा। साथ ही सलाह दी कि बेईमान लोग सही रास्ते पर लौट आएं, उन्हें फांसी पर नहीं चढ़ाएंगे। शनिवार को मुंबई तट से करीब डेढ़ किलोमीटर अंदर अरब सागर में छत्रपति शिवाजी महाराज मेमोरियल की आधारशिला रखने के बाद प्रधानमंत्री ने बांद्रा-कुर्ला कॉम्प्लेक्स में एक जनसभा को संबोधित किया।

प्रधानमंत्री ने साफ शब्दों में कहा कि बेईमान बख्शे नहीं जाएंगे। अगर कोई सोचता है कि वह पहले की तरह बचने का कोई रास्ता निकाल लेगा तो ऐसा नहीं होगा…सरकार बदल चुकी है। मोदी ने कहा कि कुछ लोगों ने सोचा कि बैंक वालों से मिलकर वे कालेधन को सफेद कर लेंगे, लेकिन वे लोग तो मरे ही, बैंक वालों को भी मरवा दिया।

प्रधानमंत्री ने कहा कि नोटबंदी के उनके फैसले से लोगों को तकलीफ हुई, लेकिन लोगों ने इसका साथ दिया है। लोगों को गुमराह करने की कोशिशें भी हुईं, लेकिन वे गुमराह नहीं हुए। बल्कि महाराष्ट्र में निकाय चुनावों में तो लोगों ने गुमराह करने वालों को जवाब भी दे दिया। उन्होंने कहा- “मुझे पूरा विश्वास है कि नोटबंदी से जितनी भी तकलीफ आएगी, लोग उसे झेलने को तैयार हैं।”

मोदी ने कहा कि उनकी सरकार की प्राथमिकता में गरीबों का कल्याण सबसे ऊपर है। विकास ही सारी समस्याओं का समाधान है। उन्होंने कहा कि विकास से ही गरीबों को उनका हक मिल सकता है। मध्यम वर्ग के अरमानों को उड़ान विकास ही दे सकता है।

loading...